वन एवं पर्यावरण

स्थानिक डोमेन में वन आवरण, जैव-विविधता और वन्य-जीव के प्रबंधन और संरक्षण के लिए उसकी दशा और स्थिति के बारे में विश्वसनीय, नियमित तथा अद्यतन सूचना की आवश्यकता होती है। राष्ट्रीय विकास के लिए पारिस्थितिकी संतुलन, आश्रित समुदायों की आजीविका का समर्थन और पर्यावरणीय संसाधनों के सतत प्रबंधन में अंतरिक्ष आधारित सूचनाओं ने (इनपुट) महत्वपूर्ण योगदान दिया है।


प्रमुख उपलब्धियां

  • सामरिक महत्व का पर्यावरणीय प्रभाव आकलन
  • वन आवरण का मानीटरन
  • भूदृश्य स्तर के जैव-विविधता का वर्गीकरण
  • जैव-ईंधन और कार्बन का लेखा-जोखा
  • जैवमंडल और वन्य जीवन आवास मानचित्रण
  • पारिस्थितिकी-संवेदनशीलता क्षेत्रीकरण
  • दवाग्नि संसूचन और जले क्षेत्र का आकलनt

प्रमुख लाभ

  • वन संसाधनों का सतत प्रबंधन
  • संयुक्त वन प्रबंधन
  • जैव-विविधता संरक्षण और प्रतिरक्षण
  • वन्य जीव संरक्षण
  • दवाग्नि नियंत्रण और शमन

संपादित परियोजनाएं

  • आईआरएस एविफ्स के प्रयोग से वन्य आवरणक्षति का स्वचालित संसूचन
  • वन भूमि का भूसंपत्ति संबंधी भूस्थानिक आंकड़ा आधार का जनन
  • आईआरएस बहु-संवेदक आंकड़ा के प्रयोग से भारतीय वन आवरण परिवर्तन अलर्ट प्रणाली
  • जैवमंडल रिजर्व की मॉनीटरिंग
  • दवाग्नि अलर्ट

प्रचालनात्मक उत्पाद/सेवाएं

  • द्वि-वार्षिक वन आवरण की दशा (भारतीय वन संरक्षण हेतु)
  • स्वचालित वार्षिक/अर्ध-वार्षिक वन आवरण परिवर्तन (वर्तमान में 08 राज्यों के लिए कार्यात्मक)
  • भू-दृश्य स्तर पर जैव-विविधता नियोजन हेतु सूचना
  • वन के प्रकार का मानचित्रण
  • भारतीय दवाग्नि प्रतिक्रिया एवं आकलन प्रणाली
  • वन कार्य योजना की तैयारी एवं संरक्षित क्षेत्र प्रबंधन योजना हेतु सूचना
  • वन्य-जीव आवास-स्थान का मूल्यांकन
  • उपग्रह आंकड़ों के प्रयोग से कृषि दाअवशेष के दाहन का मानीटरन

शोध के क्षेत्र

  • प्रारंभिक चरणों में वनरोपन का आकलन
  • एडी फ्लक्स टॉवर के माध्यम से कार्बन स्रोत और सिंक (भंडारण) का आकलन और सुदूर संवेदन के प्रयोग से क्षेत्रीय स्तर पर बढ़ावा
  • सूक्ष्मतरंग और लिडार संवेदक के माध्यम से वन संरचना और विकास मॉडलिंग
  • हाईपर स्पेक्ट्रमी संवेदकों के प्रयोग से वन स्वास्थ्य आकलन
  • वन-त्रृतुजैविकी (फेनोलॉजी) और शुष्कन (डेसीकेशन) की निगरानी
  • गैर-इमारती लकड़ी ( नॉन -टिंबर) वन उत्पाद की सूची का आकलन
  • दीर्घकालिक पारिस्थितिकी अध्ययन

वन एवं पर्यावरण