वायुमंडल एवं जलवायु अध्ययन

एनआरएससी के पृथ्वी एवं जलवायु विज्ञान क्षेत्र (ईसीएसए) उपग्रह, भू-अवलोकन तथा मॉडलिंग के माध्यम से भूमि-हवा-समुद्र की अन्योन्यक्रिया के साथ युग्मित प्रणाली के रूप में पृथ्वी अध्ययनोंका विश्लेषण करता है। ईसीएसए के कार्यात्मक घटकों में भूमि सतह की प्रक्रियाएं एवं जलवायु मॉडलिंग, स्थलीय विज्ञान, वायुमंडलीय विज्ञान एवं समुद्र विज्ञान शामिल हैं।

स्थलीय विज्ञान

जैव-मंडल मॉडल में वनस्पति गतिकी और कार्बन चक्र के साथ स्थलीय पारिस्थितिकी प्रणाली के गतिशील व्यवहार की पूरी श्रृंखला अनुकरणीय होना चाहिए। इसमें नदी प्रवाह, जल उपयोग, भूमिगत जल, झील का स्तर, हिम आवरण, हिमनदों एवं बर्फ आवरण, स्थायी-तुषार और मौसमके अनुसार बर्फ से ढ़की जमीन, श्वेतिमा (एल्बिडो), भूमि आवरण (वनस्पति के प्रकार सहित), अवशोषित प्रकाश - कृत्रिम रुप से सक्रिय विकिरण का अंश (एफएपीएआर), लीफ एरिया इंडेक्स (एलएआई), जैव-ईंधन, अग्निदाह विक्षोभ (Fire disturbance), मृदा नमी के साथआवश्यक प्राचलों की गणना शामिल है।

वायुमंडलीय विज्ञान

वायुमंडल का जल- विज्ञान चक्र, गतिकी और रसायन वायुमंडल को प्रभावित करता है। वायुमंडलीय मॉडल में वायु-तापमान, वर्षा, वायु-दाब ,सतह विकिरण बजट, पवन की गति और दिशा, जल वाष्प, भूमि विकिरण बजट (सौर विकिरण सहित), ऊपरी-वायु तापमान, पवन की गति और दिशा, जल वाष्प, बादल के अभिलक्षण एवं कार्बन डाइऑक्साइड की रचना, मिथैन, ओजोन, अन्य दीर्घकालिक ग्रीन हाउस गैस, वायुविलय (ऐरोसॉल) अभिलक्षणों के साथ आवश्यक प्राचलों की गणना शामिल है।

जलवायु एवं पर्यावरण अध्ययनों के लिए राष्ट्रीय सूचना प्रणाली - नाईसेस

पृथ्वी ग्रह को बचाए रखने के लिए पूरेविश्व मेंसबसे अधिक चिंतनीय चर्चा का विषय- जलवायु परिवर्तन है। जलवायु परिवर्तन पर अंतर-सरकारी पैनल (आईपीसीसी) की चौथी आकलन रिपोर्ट में 1906 से 2005 के दौरान वैश्विक औसत तापमान में0.74°Cकी बढ़ोतरी दर्ज की गई है। आवश्यकता को महसूस करते हुए,इसरो ने अंतर और आंतर-विभागीय संस्थानों के प्रतिनिधित्वों के साथ मिलकर नाईसेस कार्यक्रम प्रबंधन परिषद (एनआईसीईएस-पीएमसी) के अन्तर्गत जलवायु परिवर्तन के प्रभाव आकलन और शमन हेतु सूचना आधार तैयार करने के जनादेश के साथ जलवायु और पर्यावरण अध्ययनों के लिए राष्ट्रीय सूचना प्रणाली (एनआईसीईएस) का गठन किया। नाईसेसदेखें। वायुमंडल और जलवायु अध्ययन

वायुमंडल एवं जलवायु अध्ययन